गज़ल - जो नब्ज थामे चारागर बने थे ‘नादाँ’


वो रूठे हमसे, अब उफ़्क हो गए
मेरी साँसे कुछ यु अबस हो गए

सा- जिप्सी 

इस शहर के बच्चे बड़े क्या हुए
गुस्ताखियाँ उनके अदब हो गए


कांटे बने  मासूमियत के निशाँ
कुदरत के फैसले अजब हो गए


गमदीदा शहर, अखबार हुए लोग
हासिये के खबर भी गजब हो गए


सियासत ने खेले  शतरंजी खेल
आंसु भी आँखों में जज्ब हो गए



जो नब्ज थामे चारागर बने थे ‘नादाँ’
वही तेरी ही बिमारी के सबब हो गए 

टिप्पणियाँ

  1. जो नब्ज थामे चारागर बने थे ‘नादाँ’
    वही तेरी ही बिमारी के सबब हो गए .....शेर बड़ी बखूबी से अपने जज्बात को पेश कर रहे है Ow some

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विचार - वर्तमान शिक्षा नीति – इस नीति का नियत देश की नियति के लिए ठीक नही

ग़ज़ल - अकेले जीना, तेरी आखें से सिखाया ना गया

ग़ज़ल - मेरी कलम की खामोशी का एहसास है मुझे