संदेश

May, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं
चित्र
'नादाँ' अपनी आवारगी को बड़ा मुनासिब पाया 
ना कहीं दिवार खड़ी की ना कहीं घर बना पाया