संदेश

April, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हमने फूलों को उगलते जहर देखा है

होश में आये तबसे बस सफर देखा है मेरी आवारगी ने कब मेरा घर देखा है
सापों का फ़न  लुट लिया सियासत ने हमने फूलों को  उगलते जहर देखा है
जिसने दुनिया की कमीनगी नही देखी उस बच्चे को मुस्कुराते हर सहर देखा है 
सुब्ह का उजास ना शाम सुरमई देखी मेरी आँखों ने रिज्क का दोपहर देखा है
टूट शाखा से दुनिया खत्म नही होती पत्तों को भी उगातेनया शज़र देखा है
इंकलाब का मतलब-ओ-असर वो जाने जिसने भूख से सुलगता मंजर देखा है
हमसे जिरह करते वो नही थकते ‘नादां’ जिसने सर की छाँव लुटते अम्बर देखा है