संदेश

September, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - अकेले जीना, तेरी आखें से सिखाया ना गया

चित्र
हमसे हो ना सका तुमसे निभाया ना गया दौर-ए-इश्क को अंजाम पर लाया ना गया
फलक और जर्रे का ताल्लुकये दौरे-ए-जहॉ तुम हुस्न हो हम इश्क ये भुलाया ना गया
ताल्लुक रस्म के मानिन्द, चलते कब तक हमसे हो ना सकातुमसे निभाया ना गया
इस बात की तकलीम अब मुमकिन कैसे आग तुमसे लगाया ना हमसे बुझाया गया
तेरी जुल्फों से दुर मेरी ये दुनिया कैसी यूँ जीना तेरी आखें से सिखाया ना गया
तर्के-ताल्लुक इंतजारबेकरारी अब के 'नादां' हमसे आया ना गया उनसे बुलाया ना गया