ये नशा न उतरे वो ख़ुमार रह जाये

एक गज़लसा... 

ये नशा न उतरे वो ख़ुमार रह जाये 
इस इश्क में इतना करार रह जाये 
बेकरारी का मज़ा भी खूब है 'नादाँ '
वो ना आये अब इन्तजार रह जाये

माना वो चारागर है मर्जे इश्क का
मेरा मर्ज मर्ज रहेे बीमार रह जाये

ये नज़्म मेरे ये जख़्म मेरे ये दर्द मिरे
तेरे जिक्रो किस्सों ये शुमार रह जाये

गुलशन की ये इल्तज़ा अब कुबूल हो
ख़िजा भी आये ये बहार भी रह जाये

तु हुश्न रहे तु जहाने इश्क का खुदा रहे
दुआ कुबूल हो मन्नतें हजार रह जाये

ना इश्क ही ना तिज़ारत हो सका 'नादाँ '
रहने दो कुछ ख्वाहिशें उधार रह जाये

जयनारायण बस्तरिया 'नादाँ '
..........
खुमार = हल्का सा नशा
करार = धैर्य, शर्त, अनुबंध
चारागर = चिकित्सक
मर्जे इश्क = इश्क की बीमारी
मर्ज = बीमारी
जिक्रो = उल्लेखों
शुमार = सामिल
इल्तज़ा = निवेदन
ख़िजा = पतझड़
तिज़ारत = व्यापार
...........

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विचार - वर्तमान शिक्षा नीति – इस नीति का नियत देश की नियति के लिए ठीक नही

काफ़िर कहना मुझे जायज है ......

ग़ज़ल - देखना हम भुखे कब इन्कलाब ले आयेंगे