ये भेडियो की दुनिया है यूँ मेमनो का जलसा है

   ये भेडियो की दुनिया है
   यूँ मेमनो का जलसा है
जय बस्तरिया @स्कूल

   खैर कुछ सांसो की  है
   अब तब ये पल सा  है

   बस्तर की बेख्याली है
   या पेशानी मे बल सा है

   यूँ तो भुख मैदानों की है
   पहाड़  में दावानल सा है

   कुछ साजिशें ये घात है
   हर दर्द ही    हल सा  है

   सोचो की ये सूरत बदले
   आज भी सब कल सा है

   भटके हांथो में लगाम है
   ये आग है या जल सा है

   उन्हें ये बदगुमानी है बस
   अब सबकुछ ग़ज़ल सा है


   जो आसमां पाँव में उठाये
   झींगुरों के इक दल सा  है

जयनारायण बस्तरिया

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विचार - वर्तमान शिक्षा नीति – इस नीति का नियत देश की नियति के लिए ठीक नही

ग़ज़ल - मेरी कलम की खामोशी का एहसास है मुझे

ग़ज़ल - अकेले जीना, तेरी आखें से सिखाया ना गया